Thu. Oct 22nd, 2020

इंडिया सावधान न्यूज़

राष्ट्र की तरक्की में सहयोग

कृषि बिल के विरोध में किसानों का प्रदर्शन, हरियाणा में कई हाईवे जाम

1 min read

नई दिल्ली, एजेंसी। कृषि बिल को लेकर आज देशभर में किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन समेत विभिन्न किसान संगठनों के देशभर में प्रस्‍तावित चक्का जाम में 31 संगठन शामिल हुए। कांग्रेस, आरजेडी, समाजवादी पार्टी, अकाली दल, टीएमसी समेत कई पार्टियों ने किसानों के विरोध प्रदर्शन को समर्थन दिया। बिहार में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने ट्रैक्टर रैली निकाली। वहीं, पंजाब में तीन दिवसीय रेल रोको अभियान के दूसरे दिन आज भी किसान रेल पटरियों पर डटे रहे और ट्रेनों को रोका। किसानों के प्रदर्शन का ज्यादा असर हरियाणा, पंजाब, बिहार, तामिलनाडू मिल रहा है।

शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने मुक्तसर में लाम्बी गांव में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री को तत्काल कैबिनेट की बैठक बुलानी चाहिए और राज्य को एक ‘मंडी’ घोषित करने के लिए एक अध्यादेश पारित करना चाहिए, ताकि पंजाब में हाल ही में पारित कृषि बिलों को लागू न किया जा सके। उन्‍होंने कहा कि अमेरिका ने दूसरे विश्‍व युद्ध के दौरान एटम बम गिराकर जापान को हिलाकर रख दिया था। इसी तरह अकाली दल के एक बम (हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा) ने मोदी सरकार को हिला दिया है। पिछले दो महीनों से किसानों पर कोई शब्द नहीं था, लेकिन अब 5-5 मंत्री इस पर बोलते हैं।

बिहार के गया में कृषि बिल को लेकर विपक्षी दल विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। आरजेडी के जिला कार्यकर्ता ने कहा कि हम किसान विरोधी कानूनों का विरोध कर रहे हैं जिन्हें केंद्रीय सरकार द्वारा निरस्त किया जाना चाहिए। इससे केवल निगमों को लाभ होगा और सभी मंडियों को बंद करने का मार्ग प्रशस्त होगा।

किसानों ने रोहतक के चारों तरफ हाईवे पर जाम लगा दिया है। रोहतक-हिसार हाईवे पर भैनी महाराजपुर, रोहतक-पानीपत हाईवे पर ब्रह्मणवास के समीप, रोहतक- जींद हाईवे पर टीटोली गांव के पास और रोहतक- भिवानी हाईवे पर भाली आनंदपुर शुगर मिल के पास किसानों ने रोड जाम कर दी है। यहां पुलिस प्रशासन किसानों से रास्ता खुलवाने के लिए बातचीत कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *