Tue. Apr 20th, 2021

इंडिया सावधान न्यूज़

राष्ट्र की तरक्की में सहयोग

किसान नेताओं की ओर से बैठक में अकेली महिला कविता तालुकदार ने अफसरों के छुड़ाए पसीने

1 min read

नई दिल्ली कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार और किसान नेताओं की गुरुवार को बैठक हुई. चौथे दौर की इस बैठक में करीब 40 किसान नेता शिरकत किए. दोपहर 12 बजे शुरू हुई ये बैठक करीब साढ़े सात घंटे चली. इस अहम बैठक में किसान नेताओं की तरफ से कविता तालुकदार अकेली महिला रहीं.

कविता एक सोशल एक्टिविस्ट हैं और किसान आंदोलन की सेंट्रल कोऑर्डिनेशन कमिटी की मेंबर भी हैं. इस चर्चा में किसान नेताओं का प्रतिनिधित्व करते हुए कविता ने जबरदस्त दलीलें दी हैं. कविता तालुकदार ऑल इंडिया किसान संयुक्त समिति की भी सदस्य हैं.

आपको बता दें कि केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान पिछले 8 दिनों से दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं. किसान कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. वहीं, सरकार किसानों को समझाने में जुटी है. सरकार का कहना है कि कृषि कानून किसानों के पक्ष में है.

कृषि कानूनों के विरोध के बीच आज की बैठक अहम मानी जा रही है. आज की बैठक से आगे का रास्ता तय होगा. सरकार क्या किसानों को समझाने में सफल रहेगी. क्या कृषि कानूनों को लेकर किसानों के भ्रम को सरकार दूर कर पाएगी. इन सभी सवालों के जवाब आज की बैठक से मिल जाएंगे.

सूत्रों के मुताबिक, आज बैठक में सरकार बताएगी कि निजी मंडी और सरकारी मंडी में क्या फर्क है. इससे पहले किसानों ने मीडिया रिपोर्ट को प्रस्तुत किया. अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्ट का भी हवाला दिया गया. कहा गया कि सभी कह रहे हैं कि किसानों का बुरा हाल होगा. एक किसान ने कहा कि हमें मालूम है कि सरकार किसानों को मारना चाहती है.

किसानों की ओर से एमएसपी पर अपनी मांग रखी गई. किसानों ने अपनी ओर से दस पन्नों का खाका पकड़ाया. संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से कुल दस पन्नों का खाका सरकार को सौंपा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *