Mon. Jan 25th, 2021

इंडिया सावधान न्यूज़

राष्ट्र की तरक्की में सहयोग

दादा का अंतिम संस्कार चल रहा था, अचानक तेज आवाज हुई…

1 min read

यूपी गाजियाबाद ज़िले के मुरादनगर में रविवार दोपहर को श्मशान में हुए हादसे में 25 लोगों की मौत हो गई। इनमें जयराम के परिवार का एक सदस्य भी शामिल है। यहां फल विक्रेता जयराम के अंतिम संस्कार के दौरान गैलरी की छत गिर गई थी। चश्मदीदों के मुताबिक, हादसे के बाद का मंजर बेहद भयावह था। मलबे में दबे लोगों के शरीर के अंग तक कट गए थे।

ख़बरों के मुताबिक जयराम के पोते देवेंद्र ने बताया- दादा का अंतिम संस्कार चल रहा था। उस समय बारिश हो रही थी, तो लोग नई बनी गैलरी में खड़े हो गए। अचानक तेज आवाज आई। जब मैं उस तरफ दौड़ा, तो देखा कि छत गिर चुकी थी। कई लोग इसके नीचे दबे हुए थे। हादसे में मेरे चाचा की मौत हो गई। बड़े चाचा का लड़का भी मलबे में दबा था। उसे अस्पताल में भर्ती कराया है। मेरे पिता को कंधे पर चोट आई, वे बाल-बाल बच गए।

पास ही में रहने वाले सुशील कुमार ने बताया कि हादसे के बाद किसी का केवल हाथ नजर आ रहा था तो किसी का सिर। ऐसा लग रहा था कि जो जहां खड़ा था, वहीं दब गया। गैलरी के किनारे पर खड़े लोग भी घायल हो गए।

इसी क्रम में श्मशान घाट के पास रहने वाले अरनेस्ट जेम्स ने बताया कि बारिश के बीच तेज आवाज हुई और चीख पुकार मच गई। घर से निकलकर देखा तो लोग श्मशान से बाहर की तरफ भाग रहे थे। स्थानीय लोगों ने ही पुलिस और रेस्क्यू टीम को बुलाया। इसके बाद मलबे में दबे लोगों को निकालने का काम शुरू हुआ।

इसके अलावा श्मशान के पड़ोस में रहने वाले मोरगन का कहना है कि हालात देखकर यह कहना मुश्किल था कि मलबे में दबे लोग जिंदा होंगे। कुछ लोग ऐसे भी थे जिनके हाथ-पैर कट चुके थे। जेसीबी से मलबा हटाकर लोगों को बाहर निकाला गया।

हादसे की खबर मिलते ही जयराम के परिजन भी मौके पर पहुंचे। सभी का रो-रोकर बुरा हाल था। कोई मलबे में अपने भाई की तलाश कर रहा था, तो कोई अपने पिता की। ​महिलाएं भी रोती-बिलखती अपनों को खोज रही थीं। कौन कहां है, किसी को पता नहीं था। हर किसी की जुबां से यही निकल रहा था कि यह क्या हो गया?

बताया जा रहा है कि ढाई महीने पहले श्मशान घाट पर धूप, बारिश से बचाव के लिए 60 फीट लंबी गैलरी बनाई गई थी। इसे बनाते समय क्वालिटी का ध्यान नहीं रखा गया। गैलरी के गिरते ही इसे बनाने में इस्तेमाल हुई सामग्री चूरे में तब्दील हो गई। मुरादनगर के श्मशान में हादसे के समय 100 से ज्यादा लोग श्मशान में मौजूद थे। ये सभी फल व्यापारी के अंतिम संस्कार में शामिल होने पहुंचे थे। गैलरी के गिरने से वहां खड़े लोग मलबे में दब गए और किसी को बचने का मौका नहीं मिला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *