Sat. Apr 17th, 2021

इंडिया सावधान न्यूज़

राष्ट्र की तरक्की में सहयोग

यूएस हिंसा ; हंगामे के दौरान खूब नजर आया कनफेडेरेट फ्लैग, आखिर इस झंडे की क्या है कहानी ?

1 min read

यूएस हिंसा ; हंगामे के दौरान खूब नजर आया कनफेडेरेट फ्लैग, आखिर इस झंडे की क्या है कहानी ?

अमेरिका में राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प के समर्थकों ने चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए वॉशिंगटन डीसी में मौजूद कैपिटल बिल्डिंग में जमकर बवाल काटा. हंगामे के दौरान एक कनफेडेरेट फ्लैग नामक झंडा खूब नजर आया. इसकी फोटो वायरल रहीं. कई प्रदर्शनकारियों को इसे लेकर टहलते देखा गया. आखिर इस झंडे की कहानी क्या है? आईये एक नज़र डालते हैं इसके इतिहार पर –

अमेरिका जुलाई 1776 में स्वतंत्र हुआ था. उस समय अमेरिका 13 उपनिवेशों में बंटा हुआ था. ये 13 उपनिवेश कानूनी तौर पर ब्रिटेन से अलग हो गए. संस ऑफ़ लिबर्टी नाम का एक संगठन था, जिसके फाउंडर थे सैमुएल एडम्स. इस संगठन के नेतृत्व में ब्रिटिशर्स के खिलाफ लड़ाई लड़ी गई. आजादी के बाद अमेरिका के सामने सवाल ये था कि इसे किस तरह का देश बनाया जाए. पॉलिटिकल सेटअप कैसा हो. अमेरिका में कई स्तर पर गहरी खाई थी. समाज बंटा हुआ था. राज्यों के बीच में मतभेद थे. 1789 में अमेरिका का संविधान बना. उस संविधान के मुताबिक कनफेडेरेट फ्लैग अपना लिया गया.

दरअसल आजादी के समय अमेरिका में 13 कॉलोनीज़ थीं. इन 13 कॉलोनीज़ का अपना प्रेजेंटेशन था. हर कोई अपना अलग झंडा चाहता था. अगर हम इसे भारत के संदर्भ में समझें तो जैसे जम्मू-कश्मीर का अपना झंडा था, कुछ समय पहले तक. वैसा ही इन 13 कॉलोनीज़ के साथ था. इसके बाद संविधान में एक नियम बना. सहमति बनी कि हर कोई ये तय कर सकेगा कि उसके फ्लैग के अंदर कौन सा सिंबल होगा. उस तरीके से कनफेडेरेट फ्लैग आया. हालांकि उसके बाद अमेंडमेंट होते रहे. अमेरिका का जो पहला झंडा था, उसका डिजाइन यही था. 13 स्टार और रेड एंड वाइट स्ट्रिप्स. इस झंडे को 1767 में ही संस ऑफ़ लिबर्टी ने अपना लिया था.

1861 में अब्राहम लिंकन अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति बने. लिंकन रिपब्लिकन पार्टी से थे. उनका पहला एजेंडा गुलामी खत्म करना था. उस समय अमेरिका के साउथ स्टेट में गुलामी काफी डोमिनेंट तरीके से थी. ब्लैक अमेरिका में गुलाम हुआ करते थे. कई राज्य नहीं चाहते थे कि गुलामी को खत्म किया जाए. क्योंकि उनका पूरा सिस्टम उसी पर आधारित था. ऐसे में अमेरिकन सिविल वॉर हुआ. हालांकि इस गृह युद्ध की कई वजहें बताई जाती हैं, लेकिन एक वजह गुलामी भी थी. नॉर्थ के स्टेट और साउथ के स्टेट के बीच लड़ाई हुई. इस युद्ध में उत्तरी राज्य अमेरिका की संघीय एकता बनाए रखना चाहते थे, और पूरे देश से दास प्रथा हटाना चाहते थे. इस लड़ाई में कई लोग मारे गए. नॉर्थ के स्टेट ने साउथ के स्टेट्स को हरा दिया. इसके बाद अमेरिका ने एक नए झंडे को अपनाया. जिसमें यूनिट और स्पिरिट की बात कही गई.

कंफेडरेशन का फ्लैग 1861 के समय आया. जब अमेरिकन सिविल वॉर हुआ था, तब ये खूब लहराया गया था. राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन के कार्यकाल में. तब जो रिबेलियन स्टेट थे, उन्होंने अपना झंडा यूज किया था. स्टेट ऑफ अमेरिका के खिलाफ यह बगावत का प्रतीक माना जाता है, इसलिए इसे लेकर एक इमोशन और सेंटिमेंट जुड़ा है. ऐसा नहीं है कि कनफेडेरेट फ्लैग पहली बार लहराया गया है. कई बार विरोध प्रदर्शन में ये झंडा लहराया जाता है. इस बार के राष्ट्रपति चुनाव में भी इस झंडे की मौजूदगी रही.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *