Thu. Jul 29th, 2021

इंडिया सावधान न्यूज़

राष्ट्र की तरक्की में सहयोग

बदायूं के 600 किसानों को महाराष्ट्र की कंपनी ने लगाई चपत

1 min read

बदायूं के 600 किसानों सहित बरेली, शाहजहांपुर, संभल और फर्रूखाबाद के हजारों किसानों को चपत लगा दी। कंपनी ने किसानों को महंगे दाम पर धान के बीज बेचे। अब धान में बालियां नहीं आ रहीं। दो-चार पौध पर बालियां आईं भी तो उसमें दाने नहीं बन रहे। परेशान किसानों ने जब शिकायत दर्ज करायी तो अफसरों के कान खड़े हुये। जांच के बाद कंपनी और चंदौसी के दो बीज भंडारों को नोटिस जारी किया गया है।

जिला कृषि अधिकारी विनोद कुमार ने मंगलवार को दातागंज के बीरमपुर में जाकर धान की फसल देखी। यहां अकेले 400 बीघा जमीन पर रोपी गयी धान की पैदावार नहीं हुई। अधिकारी ने बताया कि जिले में 156 किसान अब तक कार्यालय में शिकायत दर्ज करा चुके हैं। अनुमान है कि जिले में एक हजार बीघा से ज्यादा में इस बीज का प्रयोग हुआ।

अफसरों की पड़ताल में अब तक 26 क्विंटल कीर्तिमान कंपनी के गौरी ब्रांड का हाईवेड बीज की सप्लाई सामने आ चुकी है। जिले में करीब 600 किसानों को बीज देकर चपत लगाई गई है। कंपनी ने किसानों को 320 रुपये प्रति किलो के हिसाब से गौरी ब्रांड का हाईब्रेड बीच बेचा है और किसानों को आठ क्विंटल प्रति बीघा के हिसाब से उत्पादन बताया, लेकिन यहां एक दाना नहीं निकला है।

ऐसा के केवल बदायूं ही नहीं बरेली, शाहजहांपुर, फर्रूखाबाद, चंदौसी, संभल, मुरादाबाद जिलों में भी गौरी ब्रांड धान की सप्लाई दी गयी और किसानों का नुकसान हुआ है। जिला कृषि अधिकारी ने महाराष्ट्र की कंपनी कीर्तिमान एक्ग्रीजंक्शन को नोटिस देकर जवाब मांगा है। वहीं, बरेली के पाठक बीज भंडार, चंदौसी के बालाजी बीज भंडार को नोटिस दिया। जिन्होंने बिना अनुमति और बिना डीलर के किसान को धान बांटकर धोखाधड़ी कर गये। कृषि विभाग जवाब के इंतजार में हैं, इसके बाद मुकदमा दर्ज कराया जायेगा।

कोट

महाराष्ट्र की कीर्तिमान कंपनी है। जिसका डीलर बदायूं में कोई नहीं है। कंपनी ने चंदौसी के बालाजी व बरेली के पाठक बीज भंडार से धान का बीज किसानों को उपलब्ध कराया था। जिले के कुछ बीज भंडारों से बिक्री करायी है। धान में बालियां नहीं आ रही हैं और दाना नहीं बन रहा है। अब तक 156 किसान शिकायत दर्ज करा चुके हैं। कंपनी और बीज भंडारों को नोटिस दिया है। जवाब न आने पर मुकदमा दर्ज कराया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *